कोर्ट पहुंचा अनोखा मामला: बच्चे की किलकारी सुनने को तरसी महिला, मुराद नहीं हुई पूरी तो बेटे व बहू के खिलाफ कराया मुकदमा

0
0
कोर्ट पहुंचा अनोखा मामला: बच्चे की किलकारी सुनने को तरसी महिला, मुराद नहीं हुई पूरी तो बेटे व बहू के खिलाफ कराया मुकदमा


Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

संवाद न्यूज एजेंसी, रोशनाबाद (हरिद्वार)
Published by: रेनू सकलानी
Updated Thu, 12 May 2022 12:06 PM IST

सार

सास-बहू, पति-पत्नी के झगड़े संबंधित कई मामले कोर्ट पहुंचते हैं, लेकिन हरिद्वार जिले में एक बेहद अजीब मामला सामने आया है। मां ने अपने बेटे और बहू के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। साथ ही पांच करोड़ रुपये की मांग की है। पढ़िए पूर मामला…

ख़बर सुनें

महिला ने बेटे व बहू पर शादी के छह वर्ष बीतने पर भी संतान पैदा न करने और पौत्र या पौत्री के सुख से वंचित करने का आरोप लगाते हुए पांच करोड़ रुपये की राशि मांगी है। बेटे और बहू के खिलाफ घरेलू हिंसा की धाराओं के अंतर्गत न्यायालय में वाद दायर किया है। तृतीय एसीजे एसडी कोर्ट ने दायर वाद में 17 मई की तिथि लगाते हुए स्थानीय संरक्षण अधिकारी से रिपोर्ट तलब की है। 

अधिवक्ता अरविंद कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि सिडकुल स्थित हरिद्वार ग्रीन निवासी महिला साधना प्रसाद पत्नी संजीव रंजन प्रसाद ने पुत्र श्रेय सागर, पुत्रवधू शुभांगी सिन्हा और चार अन्य पर वाद दायर किया है। महिला ने कहा कि श्रेय सागर उसका एकमात्र बेटा है। बेटे की परवरिश में कोई कमी न हो अन्य संतान भी पैदा नहीं की। उसे पायलट बनाया।

वर्तमान में श्रेय सागर प्रतिष्ठित एयर लाइन कंपनी में बतौर पायलट कैप्टन है। महिला ने बताया कि बेटे श्रेय सागर को पायलट बनाने के लिए यूएसए से प्रशिक्षण में पैंतीस लाख रुपये की फीस, रहन-सहन का खर्च बीस लाख व पुत्र व पुत्रवधू की खुशी के लिए 65 लाख की ऑडी कार लोन लेकर खरीद कर दी है।

 

मानसिक पीड़ा व उत्पीड़न करने का लगाया आरोप
दिसंबर 2016 में उन्होंने अपने बेटे श्रेय सागर की शादी शुभांगी सिन्हा पुत्री प्रिमांशु कुमार सिन्हा निवासी सेक्टर 75 नोएडा यूपी के साथ कराई। नवविवाहित दंपति को थाईलैंड भेजा। महिला ने आरोप लगाया कि जब उन्होंने अपने बेटे व बहू से एक पौत्र या पौत्री के लिए आग्रह किया तो पुत्रवधू रोजाना झगड़ा करने लगी। महिला ने दोनों पर पौत्र व पौत्री के सुख से वंचित कर मानसिक पीड़ा व उत्पीड़न करने का आरोप लगाया।

 

विस्तार

महिला ने बेटे व बहू पर शादी के छह वर्ष बीतने पर भी संतान पैदा न करने और पौत्र या पौत्री के सुख से वंचित करने का आरोप लगाते हुए पांच करोड़ रुपये की राशि मांगी है। बेटे और बहू के खिलाफ घरेलू हिंसा की धाराओं के अंतर्गत न्यायालय में वाद दायर किया है। तृतीय एसीजे एसडी कोर्ट ने दायर वाद में 17 मई की तिथि लगाते हुए स्थानीय संरक्षण अधिकारी से रिपोर्ट तलब की है। 

अधिवक्ता अरविंद कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि सिडकुल स्थित हरिद्वार ग्रीन निवासी महिला साधना प्रसाद पत्नी संजीव रंजन प्रसाद ने पुत्र श्रेय सागर, पुत्रवधू शुभांगी सिन्हा और चार अन्य पर वाद दायर किया है। महिला ने कहा कि श्रेय सागर उसका एकमात्र बेटा है। बेटे की परवरिश में कोई कमी न हो अन्य संतान भी पैदा नहीं की। उसे पायलट बनाया।

वर्तमान में श्रेय सागर प्रतिष्ठित एयर लाइन कंपनी में बतौर पायलट कैप्टन है। महिला ने बताया कि बेटे श्रेय सागर को पायलट बनाने के लिए यूएसए से प्रशिक्षण में पैंतीस लाख रुपये की फीस, रहन-सहन का खर्च बीस लाख व पुत्र व पुत्रवधू की खुशी के लिए 65 लाख की ऑडी कार लोन लेकर खरीद कर दी है।

 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here