मां -बेटी के साथ दरिंदगी: छह साल की मासूम की हालत देख सिहर उठे डॉक्टर, पुलिस की आंखों से भी छलक आए आंसू

0
1
मां -बेटी के साथ दरिंदगी: छह साल की मासूम की हालत देख सिहर उठे डॉक्टर, पुलिस की आंखों से भी छलक आए आंसू


Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

संवाद न्यूज एजेंसी, रुड़की
Published by: रेनू सकलानी
Updated Sun, 26 Jun 2022 12:41 PM IST

ख़बर सुनें

कार में मासूम के साथ हुई दरिंदगी को देख डॉक्टर भी सिहर उठे। डॉक्टरों ने बच्ची को बचाने के लिए पूरी ताकत झोंक दी है। दून में बैठे पुलिस अधिकारियों ने मामले में आरोपियों की जल्द से जल्द गिरफ्तारी करने के निर्देश दिए हैं। एसपी देहात प्रमेंद्र सिंह सिंह डोबाल खुद नजर बनाए हुए हैं। साथ ही मामले में पल-पल का अपडेट ले रहे हैं।

हैवानियत की हदें पार कार में लिफ्ट देकर उसमें सवार लोगों ने महिला और उसकी छह साल की बेटी के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। इसके बाद मां-बेटी को गंगनहर किनारे फेंककर फरार हो गए। लहूलुहान हालत में बेटी को लेकर महिला पुलिस के पास पहुंची और घटना की जानकारी दी।

पुलिस ने तुरंत बच्ची को गंभीर हालत में सिविल अस्पताल में भर्ती कराया। पुलिस ने महिला की तहरीर पर रुड़की निवासी सोनू के अलावा चार अज्ञात पर मुकदमा दर्ज कर लिया है।  सिविल अस्पताल में शुक्रवार रात बच्ची को देख डॉक्टरों की टीम ने तुरंत उपचार शुरू किया। करीब तीन घंटे तक सर्जरी चली। इस बीच बच्ची की हालत देख डॉक्टर भी अपने आंसू रोक नहीं पाए। उधर, बच्ची के साथ हुई घटना के बाद सिविल अस्पताल में महिला दरोगा से लेकर सिपाही की भी आंखों में आंसू छलक आए।

मासूमों की चीखों से पहले भी सिहर चुका है जिला

देहरादून में बैठे अधिकारियों ने बच्ची के साथ हुई घटना के बाद जल्द गिरफ्तारी के निर्देश दिए हैं। एसपी देहात प्रमेंद्र सिंह डोबाल ने बताया कि बच्ची के साथ घटना करने वालों पर सख्ती से सख्त कार्रवाई की जाएगी। रुड़की में छह साल की मासूम से हुई दरिंदगी से बच्चियों केे साथ पूर्व में हुई घटनाओं के जख्म फिर हरे हो गए हैं। इससे पहले हरिद्वार के पास फेरूपुर गांव और रुड़की में बच्चियों के साथ इस तरह ही दरिंदगी हो चुकी है। इन दोनों मामलों से आज तक पर्दा नहीं उठ पाया है। वर्ष 2014 में हरिद्वार के फेरूपुर में नाबालिग की दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई थी। इस मामले ने पुलिस को हिलाकर रख दिया था। मामले में पुलिस ने खुलासे के लिए जमीन आसमान एक कर दिया था।

बच्ची के कंकाल मिले

सैकड़ों लोगों से पुलिस ने पूछताछ की थी लेकिन कुछ पता नहीं चला था। बाद में मामले को सीबीसीआईडी के हवाले कर दिया गया था। मामले में अब तक सीबीसीआईडी के हाथ खाली हैं। वहीं, रुड़की के जौरासी में भी 2015 में पांच साल की बच्ची लापता हो गई थी। आशंका जताई गई थी कि बच्ची के साथ दुष्कर्म कर हत्या कर दी गई है। हालांकि, इस मामले में पुलिस ने जौरासी के पास खेत में बच्ची के कपड़े और एक कंकाल बरामद किया था लेकिन उससे भी खुलासा नहीं हो पाया था कि कंकाल बच्ची का ही है। 

ये भी पढ़ें…जाम में फंसी मासूम की जान:  चार साल की बच्ची को पड़ा मिर्गी का दौरा, ट्रैफिक में एंबुलेंस फंसने से परिजन हुए बेचैन

विस्तार

कार में मासूम के साथ हुई दरिंदगी को देख डॉक्टर भी सिहर उठे। डॉक्टरों ने बच्ची को बचाने के लिए पूरी ताकत झोंक दी है। दून में बैठे पुलिस अधिकारियों ने मामले में आरोपियों की जल्द से जल्द गिरफ्तारी करने के निर्देश दिए हैं। एसपी देहात प्रमेंद्र सिंह सिंह डोबाल खुद नजर बनाए हुए हैं। साथ ही मामले में पल-पल का अपडेट ले रहे हैं।

हैवानियत की हदें पार कार में लिफ्ट देकर उसमें सवार लोगों ने महिला और उसकी छह साल की बेटी के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। इसके बाद मां-बेटी को गंगनहर किनारे फेंककर फरार हो गए। लहूलुहान हालत में बेटी को लेकर महिला पुलिस के पास पहुंची और घटना की जानकारी दी।

पुलिस ने तुरंत बच्ची को गंभीर हालत में सिविल अस्पताल में भर्ती कराया। पुलिस ने महिला की तहरीर पर रुड़की निवासी सोनू के अलावा चार अज्ञात पर मुकदमा दर्ज कर लिया है।  सिविल अस्पताल में शुक्रवार रात बच्ची को देख डॉक्टरों की टीम ने तुरंत उपचार शुरू किया। करीब तीन घंटे तक सर्जरी चली। इस बीच बच्ची की हालत देख डॉक्टर भी अपने आंसू रोक नहीं पाए। उधर, बच्ची के साथ हुई घटना के बाद सिविल अस्पताल में महिला दरोगा से लेकर सिपाही की भी आंखों में आंसू छलक आए।

Se



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here