व्हाट्सएप ने कहा- बल्क मैसेजिंग पर हो रही है कार्रवाई

0
0
व्हाट्सएप ने कहा- बल्क मैसेजिंग पर हो रही है कार्रवाई



डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। मेटा के स्वामित्व वाले व्हाट्सएप ने सोमवार को कहा कि वह ऐसे समय में स्वचालित और बल्क मैसेजिंग में संलग्न खातों पर कार्रवाई कर रहा है, जब राजनीतिक दल और व्यक्तिगत उम्मीदवार पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव से पहले मतदाताओं तक पहुंचने के लिए मंच का दुरुपयोग कर रहे हैं। 

एक आईएएनएस की स्टोरी पर प्रतिक्रिया देते हुए कि कैसे थोक व्हाट्सएप एपीआई (एप्लिकेशन प्रोग्रामिंग इंटरफेस) टूल पार्टियों और उम्मीदवारों को राजनीतिक संदेश मतदाताओं के व्हाट्सएप पर केवल 8 से 10 पैसे प्रति बल्क संदेश में सेकंड के एक अंश में भेजने में मदद कर रहे हैं। लोकप्रिय मोबाइल मैसेजिंग प्लेटफॉर्म ने कहा कि वह अपने यूजर्स की ऑनलाइन सुरक्षा के साथ-साथ चुनावी अखंडता को बनाए रखने के बारे में गहराई से परवाह करता है।

कंपनी के प्रवक्ता ने कहा, व्हाट्सएप में उन्नत स्पैम डिटेक्शन तकनीक है जो स्वचालित और बल्क मैसेजिंग में संलग्न खातों पर कार्रवाई करने के लिए चौबीसों घंटे काम करती है, जिसमें व्हाट्सएप की सेवा की शर्तो का उल्लंघन करने वाले ऐसे खातों पर प्रतिबंध लगाना शामिल है।दिसंबर 2019 में, कंपनी ने कहा था कि वह उन लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेगी जो बल्क या स्वचालित संदेश भेजकर प्लेटफॉर्म का दुरुपयोग करने में लगे हैं या दूसरों की सहायता कर रहे हैं।

विशेषज्ञों के अनुसार, हालांकि, इस तरह के स्वचालित बल्क संदेश वापस काम में आ गए हैं और ऐसे व्यक्तियों और कंपनियों के खिलाफ व्हाट्सएप नीति जो इसके नियमों और शर्तों के उल्लंघन में इस तरह के थोक संदेश भेजकर ऐप का दुरुपयोग करते हैं, पांचों राज्यों में चुनावी अभियान में बड़े पैमाने पर उल्लंघन किया जा रहा है। व्हाट्सएप ने कहा कि कंपनी ने उत्पाद और शिक्षा के ²ष्टिकोण से भी समर्पित प्रयास किए हैं, ताकि यूजर्स को उन संसाधनों के साथ सशक्त बनाया जा सके जो उन्हें जानकारी सत्यापित करने में मदद करते हैं।

व्हाट्सएप प्रवक्ता ने आईएएनएस को बताया, उदाहरण के लिए, फॉरवर्ड पर लगाई गई हमारी सीमाओं ने व्हाट्सएप पर हाई फॉरवर्डेड मैसेज के प्रसार को 70 प्रतिशत से अधिक कम कर दिया है। इसलिए, प्लेटफॉर्म पर सक्रिय रूप से वायरलिटी को बाधित कर रहा है। हम यूजर्स को उन खातों को ब्लॉक करने और रिपोर्ट करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं जिन्हें वे संदिग्ध पाते हैं या अगर उन्हें उनसे समस्यात्मक संदेश मिलते हैं।

कंपनी ने कहा कि वह 10 फैक्ट-चेकिंग संगठनों के साथ काम कर रही है जो व्हाट्सएप बिजनेस प्लेटफॉर्म पर सक्षम हैं और इंटरनेशनल फैक्ट-चेकिंग नेटवर्क द्वारा मान्यता प्राप्त हैं। व्हाट्सएप के देश में 40 करोड़ से ज्यादा यूजर्स हैं। हालांकि, थर्ड-पार्टी मार्केट और कंज्यूमर डेटा प्लेटफॉर्म स्टेटिस्टा के मुताबिक, अब देश में इसके 487 मिलियन से अधिक यूजर्स हैं।

पंजाब, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर में विधानसभा चुनाव सात चरणों में पूरे होंगे, जिसमें उत्तर प्रदेश में सबसे पहले 10 फरवरी को मतदान होगा, जबकि देश ओमिक्रॉन के नेतृत्व वाली कोविड लहर से जूझ रहा है। मतों की गिनती 10 मार्च को होगी।

आईएएनएस



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here