Ajab Gajab | Naughty Parrots | अपने बोलने वाले हुनर से ये 5 तोते कटवा रहे है चिड़ियाघर की नाक, पर्यटकों को इस तरह करते है परेशान

1
52
Ajab Gajab | Naughty Parrots | अपने बोलने वाले हुनर से ये 5 तोते कटवा रहे है चिड़ियाघर की नाक, पर्यटकों को इस तरह करते है परेशान

Ajab Gajab: आप सभी जानते है तोता एक ऐसा पक्षी है जो इंसानो की तरह बोल सकता है और आपने किसी तोते को बोलते भी सुना होगा। लेकिन क्या आप ने कभी सुना या सोचा है की अपने इसी बोलने वाले हुनर के कारण कुछ तोते चिड़ियाघर की नाक कटवा देंगें? ब्रिटेन में एक ऐसा ही मामला सामने आया है, जहां एक चिड़ियाघर से 5 तोतों को हटाना पड़ा।
ये तोते चिड़िया घर में आ रहे पर्यटकों को गंदी-गंदी गाली देने लगे थे। जिससे चिड़ियाघर के लोगों को काफी परेशानी हो रही थी। बताया जा रहा है कि ये पांच तोते एक साथ कुछ समय क्वारंटीन में थे, जिसके बाद से उनमें ये बदलाव देखा गया। फिलहाल इन तोतों की हरकतों को देखते हुए इन्हें तुरंत चिड़ियाघर से हटा दिया गया है।

ब्रिटेन के लिंकनशायर वन्यजीव पार्क में कुछ दिन पहले ही पार्क के अधिकारियों ने एरिक, जेड, एल्सी, टायसन और बिली नाम के ग्रे कलर के इन पांच तोतो को अलग-अलग लोगों से लिये थे और इसके बाद पांचों को एक साथ एक ही पिंजरे में क्वारंटीन में रखने का फैसला लिया था। उसके कुछ ही दिनों बाद अधिकारियों के पास इन तोतों की शिकायत पहुंचने लगी।

पार्क के कर्मचारियों का कहना है की पहले ये तोते आपस में ही एक दूसरे को गालियां दे रहे थे और इसके बाद वहां आने वाले लोगों को भी इन्होंने गालियां देनी शुरू कर दी। पार्क के अधिकारियों का कहना है कि हो सकता है एक साथ रहने के दौरान इन तोतों ने आपस में गालियां देना सीख लिया होगा।

इस बारे में वन्यजीव पार्क के चीफ एग्जीक्यूटिव स्टीव निकोल्स ने बताया कि यहां सभी लोग हैरान हैं कि ये तोते गालियां दे रहे हैं। हम लोग यहां आने वाले बच्चों के बारे में थोड़ा परेशान थे। उन्होंने बताया कि तोतों के मुंह से गालियां सुनकर यहां आने वाले लोग हंसने लगे तो इन तोतों को और बढ़ावा मिला और ये पहले से ज्यादा गालियां देने लगे।

इसके बाद पार्क में आने वाले बच्चों का ध्यान रखते हुए हमें इन तोतों को वहां से हटाना पड़ा। उम्मीद है कि अलग-अलग होने के बाद ये तोते कुछ नए शब्द सीखेंगे और गालियां देना बंद करेंगे।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here