Ajab Gajab | Sunfish bathing in the sun was seen on the beach of California, Lays 300 million eggs at a time | कैलिफोर्निया के बीच पर दिखी धूप में नहाने वाली सनफिश, एक बार में देती है 30 करोड़ अंडे

0
28
Ajab Gajab | Sunfish bathing in the sun was seen on the beach of California, Lays 300 million eggs at a time | कैलिफोर्निया के बीच पर दिखी धूप में नहाने वाली सनफिश, एक बार में देती है 30 करोड़ अंडे

समुद्र में विशेष प्रकार के अजीबो गरीब किस्म के जीव पाये जाते हैं। इनके बारे में आपने सुना और पढ़ा होगा। कई सारे वीडियो भी आपने समुद्री जीवों के देखे होंगे। फिर भी कई ऐसे भी जीव हैं, जिनके बारे में आपने नहीं सुना होगा और सुनकर या पढ़कर जरूर हैरानी भी होगी। इन जीवों में शामिल है समुद्र में रहने वाली एक खास मछली, जो धूप में नहाने की शौकीन है।

धूप में नहाने के लिए काफी देर तक सतह पर रहने की शौकीन होने के कारण ही इस मछली को सनफिश कहा जाता है। अमेरिका के कैलिफोर्निया की लगूना बीच पर एक पैडलबोर्डर्स ने विशालकाय सनफीश को धूप में नहाते देखा है।

अपनी खूबसूरती का फायदा उठाकर बेटी के साथ डेट पर जाती है मां, उम्र जानकर आप भी रह जाएंगे हैरान 

तस्वीर में लगाए गए अनुमान के अनुसार सनफिश के 9 से 10 फिट होने की संभावना है।सनफिश को कॉमन मोल और मोल – मोल के नान से भी जाना जाता है। इसका रंग भूरा, सुनहरास, उजला और स्लेटी होता हैं। हैरान करने वाली बात यह कि ये एक बार में 300 मिलियन यानी 30 करोड़ अंडे दे सकती है, जो की किसी भी ज्ञात कशेरुकी प्रजातियों में से सबसे अधिक है।

इस मछली के झुंड में काफी संख्या में छोटे-छोटे बच्चे भी शामिल होते हैं और इस तरह इनकी संख्या बहुत अधिक हो जाती हैं। इस कारण इस झुंड को जुवेनाइल्स कहा जाता हैं। सनफिश अपनी बड़ी चमकीली आंखे और विशाल काय सिर और लंबे पंख ही है जो उसे और मछलीयों से अलग बनाते हैं।

जिसे पानी में तैरता देख लोग शार्क समझ लेते हैं। पैडलबोर्डर्स में से एक रिच जर्मन ने बताया की 2 दिसंबर को दिखी ग्रे कलर की सनफिश बहुत शांत और अद्भुत थी। जर्मन और उनके दोस्त मैट व्हीटन बीच पर डॉल्फिन को देखने की उम्मीद कर रहे थे, लेकिन जब वे मेन बीच से 600 फीट दूर पहुंचे तो उन्हें सनफिश दिखाई दी।

जानिए दुनिया के पहले ऐसे देश के बारे में जहां सरकारी काम- काज में नहीं होता कागज का इस्तेमाल    

कई सनफिश के शरीर पर स्पॉट्स भी दिखते हैं, इस कारण यह कई बार पत्थर की तरह भी दिखती है। यह प्रशांत महासागर और अटलांटिक महासागर में अधिक पाई जाती है, लेकिन इसका शिकार करने के बाद इसे जापान, कोरिया आदि देशों में अधिक भेजा जाता है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here