Dumas Beach Gujrat India’s 3rd Most Haunted Place! Voh kaun tha iska pta nahi chala?

0
131
Dumas Beach Gujrat India’s 3rd Most Haunted Place! Voh kaun tha iska pta nahi chala?

Dumas Beach, Gujrat के औद्योगिक शहर सूरत के समुद्री तट पर स्थित डुमास बीच जिसे अंग्रेजी में लोग डुमस बीच भी कहते हैं, यह जगह अक्सर यहां पर होने वाली डरावनी घटनाओं की वजह से चर्चा में रहता है।

Thank you for reading this post, don't forget to subscribe!

विशेष तौर पर वहां घूमने वाले पर्यटकों के लिए वैसे तो ज्यादातर टूरिस्ट इस बीच का लुफ्त उठाने यहां पर आते हैं लेकिन यहां के स्थानीय लोगों की बातें सुने तो अच्छे अच्छों के पसीने छूट जाते है।

स्थानीय लोगों और यहां घूमने आए कुछ पर्यटकों के अनुसार इस बीच पर अशरीरी प्रेत आत्माओं का बसेरा है। कहते हैं कि दिन ढलने के बाद अंधेरा होने पर अगर आप इस बीच पर गए तो आपको यहां कुछ और सामान्य पैरा नॉर्मल घटनाएं देखने को मिल सकती है।

आपको यहां अदृश्य स्रोतों से चीखने चिल्लाने की आवाजें भी सुनाई दे सकती है। यहां घूमने आए लोगों द्वारा सुनी हुई बातों तो पर यकीन करें तो इनके अनुसार यहां कई पर्यटक जो रात को घूमने के लिए निकले थे फिर कभी नहीं मिले वह हमेशा के लिए गायब हो गए।

Dumas Beach Gujrat

वहां पर हर रात को कुत्तों के भौंकने और भयानक तरीके से रोने की आवाज आती है जो वहां पर भूतों और आत्माओं के होने का एहसास दिलाते हैं, लेकिन लेकिन लेकिन उसका भी एक संभावित कारण हो सकता है। दोस्तों भारत में किसी का देहांत हो जाने पर उसके शरीर का दाह संस्कार श्मशान में जलाकर किया जाता है ऐसे शमशान गृह के आसपास कुत्ते भी दिखी जाते है। और यह भी सच है कि गुजरात के समुद्र तट के एक हिस्से में दाह संस्कार की प्रक्रिया भी की जाती है।

Location Of Dumas Beach

दोस्तों भारत के गुजरात राज्य के औद्योगिक शहर सूरत से 21 किलोमीटर दूर अरब सागर के किनारे पर स्थित है। यह बीच वैसे तो यह जगह अपनी काली और विशाल नीले समुद्र के लिए प्रसिद्ध है लेकिन वर्तमान में यह अपने यहां होने वाली घटनाओं के लिए भी ज्यादा प्रसिद्ध है समुद्र तट पर मृतकों के दाह संस्कार भी किए जाने के कारण यहां पर लोगों को रात में होने वाली सामान्य घटनाएं और स्तब्ध कर देने वाली आवाज बेचैन कर देती है इसी कारण से इस जगह को भारत की सबसे अधिक भयावह और प्रेत बाधाओं में से एक करार दिया गया है।

History of Dumas Beach

अरब सागर से लगे हुए गुजरात के Dumas Beach का इतिहास भानगढ़ और कुलधरा की तरह किसी राजा रानी की प्रेम कथा या किसी जादूगर से नहीं जुड़ा है, बल्कि Dumas Beach होने वाली पैरानॉर्मल घटनाएं आम लोगों से ही जुड़ी हुई होती है।
लेकिन हां यहां पर होने वाली भूतिया घटनाएं कब से हो रही है इसके विषय में कोई निश्चित एकमत नहीं है। हालांकि ज्यादातर लोगों का मानना है कि सदियों पहले यहां पर भूत प्रेतों ने अपना घर बना लिया था और इसीलिए यहां की रेत काली हो गयी।

True Story of Dumas Beach

यूं तो सोशल मीडिया पर अक्सर चर्चा का विषय बन जाने वाले गुजरात के Dumas Beach के बारे में कईयों ने अपने अनुभव शेयर किए है। लेकिन एक सच्ची घटना जो हर्षद पटेल के साथ घटी और वह मैं आप लोगों के साथ शेयर करना चाहता हू। यह घटना साल 2017 की है, हर्षद पटेल ने बताया कि उसे भूत प्रेत पर यकीन तो था लेकिन इससे पहले उसको ऐसा कभी अनुभव नहीं हुआ था जो उसे डरा सकें।

गणेश मंदिर के पास में ही रहने वाले हर्षद का मूड उस दिन कुछ खराब था क्योंकि 2 दिन पहले ही उसकी चाची का देहांत हुआ था। अपनी कजन जलपा से बात करके जैसे ही हर्षद ने फोन काटा उसकी मोबाइल की डिजिटल वॉच ने रात के 8:00 बज के 2 मिनट का समय बताया।

Must read another Haunted Place The Historic And The Scary Trip To Bhangarh Fort

अपने दोस्त मिलिंद का वेट करते हुए उसे लगभग वहां घंटा हो चुका था लेकिन अभी तक वह नहीं पहुंचा। बीच पर चलते हुए उसे अभी 10 मिनट बीते थे कि उसे अपने पीछे किसी के चलने की अस्पष्ट आहट सुनाई दी उसने पीछे मुड़कर देखा लेकिन वहां दूर-दूर तक कोई नहीं था।

https://thinkarya.com/
Source Amino Apps

उस दिन पूर्ण चंद्रमा की रात थी इसलिए दूर दूर तक सब कुछ साफ दिख रहा था ने बताया कि उस दिन पहली बार उसे किसी अनजान चीज से डर लगा क्योंकि उसने स्पष्ट रूप से किसी की चलने की आवाज सुनी थी अपने से कोई पांच फीट पीछे।

उसने बताया कि जब थोड़ी देर तक खड़े रहने के बाद भी कुछ नहीं हुआ तो वह फिर आगे बढ़ गया। थोड़ी दूर चलने के बाद सामने से मिलिंद आता दिखाई दिया जिसे देखकर उसका मन खुश हो गया और अपने थोड़ी देर पहले हुए अनुभव को मिलिंद को सुनाने की इतनी उत्सुकता थी कि हर्षद ने उससे देर से आने का कारण ही नहीं पूछा और अपने साथ चल रहे मिलिंद को अपना रोमांचक अनुभव बताने के दौरान हर्षद के दिल की धड़कनें बढ़ी हुई थी लेकिन चुकी मिलिंद उसके पास था इसलिए उसे डर नहीं लग रहा था।

लगभग 5 मिनट तक लगातार बोलने का उसका क्रम टूटा उसके मोबाइल की रिंगटोन से, हर्षद ने मिलिंद को बोला 1 मिनट रुक तुझे बताता हूं यह कहकर हर्षद थोड़ा आगे बढ़ गया और मोबाइल को अपने कान से लगा कर बोला हेलो ! जवाब में उधर से एक महिला की खर खर आहट के साथ आवाज आई हेलो! आप हर्षद पटेल बोल रहे हैं आपके फ्रेंड मिलन का एक्सीडेंट हो गया है उनकी हालत यहां सीरियस है आप जल्दी पहुँचिये।

हॉस्पिटल का एड्रेस आपको एसएमएस कर रही हूँ , फोन करते ही हर्षद नहीं पीछे मुड़कर देखा फिर तेजी से अपने आसपास देखा लेकिन कहीं कोई नहीं था , हर्षद को मानो सांप सूंघ गया उसे अपने पैर इतने भारी महसूस हो रहे थे कि वह उठी नहीं रहे थे।

किसी तरह से वह हॉस्पिटल पहुंचा वहां मिलिंद के माता-पिता पहले ही पहुंच चुके थे बाद में हर्षद को पता चला कि उसके मोबाइल पर फोन आने के आधा घंटा पहले ही मिलिंद हॉस्पिटल में मर चुका था।

दोस्तों मुझे नहीं पता कि आप में से कितने लोग इस कहानी या घटना पर यकीन करेंगे पर आए दिन किसी न किसी के साथ ऐसी और सामान्य घटनाएं होती रहती है जिन पर यकीन कर पाना मुश्किल होता है पर उनकी सच्चाई उसे ही पता होती है जिनके साथ वह घटना घटी आपका इस तरह की घटनाओं के बारे में क्या कहना है हमें नीचे कमेंट करके जरूर बताएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here