Guldaar Attack Elderly Women | गुलदार ने बुर्जुग महिला को बनाया निवाला, पोते से मिलने आ रही थी कोटद्वार

0
31
Guldaar Attack Elderly Women | गुलदार ने बुर्जुग महिला को बनाया निवाला, पोते से मिलने आ रही थी कोटद्वार

सार

बताया जा रहा है कि महिला सवारी न मिलने के कारण पैदल मार्ग से ही अपने पोते को देखने कोटद्वार जा रही थी।

उत्तराखंड के लैंसडौन वन प्रभाग की दुगड्डा रेंज में गुलदार ने बुजुर्ग महिला को निवाला बना लिया। घटना बुधवार रात की बताई जा रही है। बताया जा रहा है कि महिला अपने पोते से मिलने के लिए कोटद्वार आ रही थी।

जनकारी के अनुसार, 65 वर्षीय जयंती देवी कंडवाल बुधवार शाम को भैड़गांव से कोटद्वार के लिए निकली थी। लेकिन देर शाम तक कोटद्वार नहीं पहुंची तो परिजनों ने उसकी खोजबीन शुरू की। ग्रामीण देर रात तक महिला की तलाश में जुटे रहे। लेकिन उसका कोई सुराग नहीं मिला। सुबह होने पर घटना का पता चला।

पैदल मार्ग से जा रही थी कोटद्वार
परिजन मनोज कंडवाल ने बताया कि वह सवारी न मिलने के कारण पैदल मार्ग से ही अपने पोते को देखने कोटद्वार जा रही थी। जुआ गांव से दूर दो किलोमीटर यात्री सेट के समीप चप्पल और रुमाल मिला। वहीं, कुछ दूर पर बैग मिला। इन स्थानों पर खून के धब्बे भी थे। सूचना मिलने पर दुगड्डा के रेंजर वन विभाग की टीम के साथ मौके पर पहुंचे। टीम ने महिला का अधखाया शव सड़क से करीब 200 मीटर जंगल से बरामद किया। महिला का शव मिलने के बाद ग्रामीणों में वन विभाग के खिलाफ आक्रोश देखने को मिला।

वहीं उप जिलाधिकारी कोटद्वार संदीप कुमार ने पट्टी पटवारी को मौके पर भेजा और घटना की पूरी जानकारी ली, उपजिलाधिकारी ने कहा पीड़ित परिवार को हर संभव मदद दीजाएगी। साथ ही वन विभाग को क्षेत्र में गश्त बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं।

विस्तार

उत्तराखंड के लैंसडौन वन प्रभाग की दुगड्डा रेंज में गुलदार ने बुजुर्ग महिला को निवाला बना लिया। घटना बुधवार रात की बताई जा रही है। बताया जा रहा है कि महिला अपने पोते से मिलने के लिए कोटद्वार आ रही थी।

जनकारी के अनुसार, 65 वर्षीय जयंती देवी कंडवाल बुधवार शाम को भैड़गांव से कोटद्वार के लिए निकली थी। लेकिन देर शाम तक कोटद्वार नहीं पहुंची तो परिजनों ने उसकी खोजबीन शुरू की। ग्रामीण देर रात तक महिला की तलाश में जुटे रहे। लेकिन उसका कोई सुराग नहीं मिला। सुबह होने पर घटना का पता चला।

पैदल मार्ग से जा रही थी कोटद्वार

परिजन मनोज कंडवाल ने बताया कि वह सवारी न मिलने के कारण पैदल मार्ग से ही अपने पोते को देखने कोटद्वार जा रही थी। जुआ गांव से दूर दो किलोमीटर यात्री सेट के समीप चप्पल और रुमाल मिला। वहीं, कुछ दूर पर बैग मिला। इन स्थानों पर खून के धब्बे भी थे। सूचना मिलने पर दुगड्डा के रेंजर वन विभाग की टीम के साथ मौके पर पहुंचे। टीम ने महिला का अधखाया शव सड़क से करीब 200 मीटर जंगल से बरामद किया। महिला का शव मिलने के बाद ग्रामीणों में वन विभाग के खिलाफ आक्रोश देखने को मिला।

वहीं उप जिलाधिकारी कोटद्वार संदीप कुमार ने पट्टी पटवारी को मौके पर भेजा और घटना की पूरी जानकारी ली, उपजिलाधिकारी ने कहा पीड़ित परिवार को हर संभव मदद दीजाएगी। साथ ही वन विभाग को क्षेत्र में गश्त बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here