Sand Eater Grandmother | she eats half a kilo of sand in breakfast every day | 80 साल की दादी को है हैरान करने वाली आदत, रोज नाश्ते में खा जाती हैं आधा किलो बालू रेत

0
47
Sand Eater Grandmother | she eats half a kilo of sand in breakfast every day | 80 साल की दादी को है हैरान करने वाली आदत, रोज नाश्ते में खा जाती हैं आधा किलो बालू रेत
                                                                 
Sand Eater Grandmother, she eats half a kilo of sand in breakfast every day, 80 साल की दादी को है हैरान करने वाली आदत, रोज नाश्ते में खा जाती हैं आधा किलो बालू रेत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। अपने दुनिया के कई सारे अजीबो-गरीब लोगों ओर उनकी हैरान कर देने वाली आदतों के बारे में सुना होगा। जो अपनी इस अद्भुत कला के कारण सुर्खियों में बने रहते हैं, उत्तर प्रदेश के वाराणसी की रहने वाली 80 साल की एक बुजुर्ग महिला उसकी अजीबो-गरीब आदतों के कारण सुर्खियों में बनी हुई है। इस बुजुर्ग महिला का नाम कुसमावती देवी है जिनकी उम्र 80 साल है। कुसमावती देवी को एक अजीब लत है जिसके बारे में जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे।

आप को जानकर हैरानी होगी की 80 साल की कुसमावती देवी हर रोज करीब 500 ग्राम बालू खा जाती है। यह बुजुर्ग महिला आज से नहीं बल्कि 18 साल की उम्र से ही ऐसा कर रही है। हैरान करने वाली बात यह है की इतने सालों से वह बिना किसी नुकसान के बालू को पचा भी रहीं है। जबकि डॉक्टर्स बालू के सेवन को नुकसान देह बताते है। डॉक्टर्स का कहना है की बालू के सेवन से पेट संबंधी बिमारियां होने का खतरा रहता है।

कुसमावती ने बताया है कि, जब वह 18 साल की थीं, तब उनका इलाज एक वैद्य ने किया था। उस दौरान वैद्य ने उन्हें कंडे की राख खाने के लिए कहा था। तब से उन्होनें राख खानी शूरू की थी। धीरे-धीरे यह आदत बालू खाने वाली आदत में बदल गई।
रिपोर्ट्स के अनुसार कुसमावती देवी खुद बालू लेकर आती हैं। इसके बाद उसे साफ पानी से धोकर सूखा लेती है, फिर उसे खाती हैं। उन्हें ऐसे करने के लिए उनके घर वाले भी मना करते है लेकिन वो किसी की बात नहीं मानती है।
उनका कहना है की अगर वो बालू नहीं खाती हैं तो उन्हें नींद नहीं आती है। उनकी इस अजीब आदत ने उन्हें पूरी दुनिया में मशहूर कर दिया है। कुसमावती देवी एक पोल्ट्री फॉर्म चलाकर गुजारा करती है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here