Unable to register due to technical fault | तकनीकी खराबी के कारण नहीं हो पा रहा पंजीयन

0
16
Unable to register due to technical fault | तकनीकी खराबी के कारण नहीं हो पा रहा पंजीयन

राष्ट्रसंत तुकड़ोजी महाराज विश्वविद्यालय में प्रथम वर्ष के विद्यार्थियों को पंजीकरण  को लेकर समस्या का सामना करना पड़ रहा है। विश्वविद्यालय से संलग्नित महाविद्यालयों को 8 दिसबंर तक प्रवेश का पंजीकरण करना है। हालांकि, विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर तकनीकी दिक्कतों के कारण अभी तक कॉलेजों ने पंजीकरण नहीं कराया है, और उनके प्रवेश की पुष्टि भी नहीं हुई है।

जिसको लेकर  प्राचार्य फोरम विवि की समस्याओं को लेकर पंजीकरण के लिए समयावधि बढ़ाने की  मांग की है। विश्वविद्यालय ने प्रथम वर्ष के छात्रों के पंजीकरण की समय सीमा 4 दिसंबर से बढ़ाकर 8 दिसंबर कर दी थी, लेकिन विवि की वेबसाइट पर तकनीकी खराबी होने के कारण अभी भी कई विद्यार्थियों के पंजीकरण नहीं हो पाए हैं। जिसको लेकर प्राचार्य फोरम  ने कहा  कि समय पर पंजीकरण करना असंभव है क्योंकि वेबसाइट के साथ अभी भी समस्याएं हैं।

अब तक नहीं मिला पासवर्ड : प्राचार्य फोरम के पत्र के अनुसार महाविद्यालय के लॉगिन से नया नामांकन करना, पुराने सिस्टम में प्रवेश लेने वाले छात्रों को अपनी अधूरी प्रोफाइल को पूरा करना है, पाठ्यक्रम का चयन करना है, विषय का चयन करना और कागज-पत्र का सत्यापन कर प्रवेश निश्चित करना व महाविद्यालय की लॉगिन से पंजीकरण कर विवि को आवेदन करना है।  लेकिन अभी तक विवि की ओर से अनेक महाविद्यालयों को यूजर नेम, पासवर्ड भी नहीं मिला है। जिन महाविद्यालयों को मिला है, पासवर्ड डालने पर “उपलब्ध नहीं’ का मैसेज आ रहा है। जिसके चलते 8 दिसंबर तक पंजीकरण करना संभव नहीं है।

ये हैं तकनीकी परेशानियां : जिन विद्यार्थियों  के पंजीकरण और प्रवेश की पुष्टि विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर पहले ही हो चुकी है, उन्हें फिर से नए पोर्टल पर करेक्शन करने की आवश्यकता है। ऐसा करने पर  विद्यार्थियों को यूजर नेम और पासवर्ड उनके मोबाइल नंबर पर भेजा जाता है। यदि महाविद्यालयों द्वारा पहली बार पंजीकरण करने का प्रयास किया जाता है, तो भी विद्यार्थियों की उपस्थिति के बिना किया जाना संभव नहीं है। एसटी सेवा बंद होने सेे कई विद्यार्थी कॉलेज में नहीं आ रहे हैं। इस बात की कोई गारंटी नहीं, कि विद्यार्थी अपनी जानकारी खुद भरेंगे। प्राचार्य फोरम ने इस बात पर आपत्ति जताई है कि इन तकनीकी दिक्कतों के कारण समय पर पंजीकरण कराना मुश्किल है।
Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here